Panch Parmeshthi Aarti | पंच परमेष्ठी आरती

Panch Parmeshthi Aarti | पंच परमेष्ठी आरती – आज हम पंच परमेष्ठी की आरती प्रकाशित कर रहें हैं.

आप सब पूरी तरह से भक्ति भावना में डूबकर इस आरती को गाते हुए पंच परमेष्ठी की आरती करें.

Also read Bhaktamar stotra – Most powerful Stotra

Panch Parmeshthi Aarti | पंच परमेष्ठी आरती

Panch Parmeshthi Aarti

|| पंच परमेष्ठी आरती ||

इह विधि मंगल आरती कीजे,
पंच परम पद भज सुख लीजै।

प्रथम आरती श्री जिनराजा,
भवदधि पार उतार जिहाजा ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

दूजी आरती सिद्धन केरी,
सुमरत करत मिटे भव फेरी ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

तीजी आरती सूर मुनिंदा,
जनम-मरण दुःख दूर करिंदा ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

चौथी आरती श्री उवझाया,
दर्शन करत पाप पलाया ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

पाँचवीं आरती साधु तुम्हारी,
कुमति विनाशन शिव अधिकारी ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

छठी ग्यारह प्रतिमा धारी,
श्रावक बंदू आनंद कारी ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

सातवीं आरती श्री जिनवाणी,
धानत स्वर्ण मुक्ति सुखदानी ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

संजा करके आरती कीजे,
अपनो जनम सफल कर लीजे ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

सोने का दीपक, रत्नों की बाती,
आरती करूँ मैं, सारी-सारी राती ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

जो कोई आरती करे करावे
सो नर-नारी अमर पद पावे ॥

इह विधि मंगल आरती कीजे ………..

प्रथम तीर्थंकर की आरती करें – Aadinath Aarti – आदिनाथ भगवान की आरती

Panch Parmeshthi Aarti Lyrics

|| Panch Parmeshthi Aarti ||

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije,
Panch Param Pad Bhaj Sukh Lije.

Pratham Aarti Shri Jinraja,
Bhavdadhi Paar Utaar Jihaja.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Get your FREE Domain For Life with our hosting plans.

Duji Aarti Siddhan Keri,
Sumrat Karat Mite Bhav Pheri.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Tiji Aarti Sur Muninda,
Janam Maran Dukh Dur Karinda.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Chouthi Aarti Shri Uvjhaya,
Darshan Karat Paap Palaya.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Paanchvi Aarti Sadhu Tumhari,
Kumati Vinashan Shiv Adhikari.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Chhathi Gyarah Pratima Dhari,
Shravak Bandu aanand Kaari.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Saatvi Aarti Shri Jinvani,
Dhanat Swarn Mukti Sukhdani.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Sanja Karke Aarti Kije,
Apno Janam Saphal Kar Lije.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Sone Ka Deepak, Ratno Ki Baati,
Aarti Karun Main Saari-Saari Raati.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

Jo Koi Aarti Kare Karave,
So Nar Nari Amar Pad Paave.

Yah Vidhi Mangal Aarti Kije ………….

विडियो

पंच परमेष्ठी की आरती | Panch Parmeshthi Ki Aarti से संबंद्धित कुछ यूट्यूब विडियो आप सबके लिए निचे दिया गया है. आप इन विडियो को देख सकतें हैं.

Aarti Panch Parmeshthi
Panch Parmeshthi Aarti Yaha Vidhi Mangal Aarti Kije

महत्व Importance

पंच परमेष्ठी जैन धर्म के अनुसार सर्व पुजिये हैं. जो परम पद में स्थित हों उन्हें परमेष्ठी कहतें हैं.

पंच परमेष्ठी की स्तुति के लिए मंत्र है –

णमो अरिहंताणं। णमो सिद्धाणं। णमो आइरियाणं।
णमो उवज्झायाणं। णमो लोए सव्वसाहूणं॥

पञ्च परमेष्ठी की आरती ( Panch Parmeshthi Ki Aarti ) भक्तिपूर्वक करना अत्यंत ही मंगलकारी होता है. समस्त पापों से मुक्ति मिल जाती है. मन के विकारों से मुक्ति मिलती है.

इस भव बंधन से मुक्ति मिलती है. यह जीवन सफल हो जाता है.

Audio

Panch Parmeshthi Ki Aarti | पंच परमेष्ठी की आरती ऑडियो निचे दिया हुआ है. आप प्ले बटन दबाकर इसे सुन सकतें हैं.

जैन धर्म के मानने वालों के लिए पंच परमेष्ठी का अत्यंत ही महत्व है. जीवन को सफल बनाने वाली इस पंच परमेष्ठी की आरती को भक्तिपूर्वक गायें.

इस पोस्ट में किसी भी प्रकार के सुधार के लिए आप हमें निचे कमेंट में अवस्य लिखें. हम अवस्य सुधार करेंगे.

विकिपीडिया पेज

अन्य प्रकाशन

Leave a Comment