Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम्

Shri Shiv Panchakshar Stotra, श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र – Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् की रचना आदि शंकराचार्य जी ने की थी.

मान्यताओं के अनुसार श्री आदि शंकराचार्य भगवान शिव के ही अवतार थे.

Shri Shiv Panchakshar Stotra, श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र भगवान शिव को समर्पित एक स्तोत्र है. इस स्तोत्र में भगवान शिव की स्तुति और प्रार्थना की गयी है.

Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम् शिव की स्तुति के लिए ॐ नमः शिवाय पर आधारित एक मनमोहक स्तुति काव्य है.

भगवान शिव की आराधना और स्तुति के लिए आप शिव पंचाक्षर स्तोत्र के साथ साथ शिव तांडव स्तोत्रम् (Shiv Tandav Stotram) और शिव चालीसा (Shiv Chalisa) का पाठ करना भी उत्तम होता है.

महादेव शिव के पावन धाम Kedarnath Yatra : केदारनाथ यात्रा से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी

Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम्

Shiv Panchakshar Stotram

|| श्री शिव पंचाक्षर स्तोत्र ||

Shiva Panchakshara Stotram
Shiva Panchakshara Stotram

नागेन्द्रहाराय त्रिलोचनाय,
भस्माङ्गरागाय महेश्वराय ।
नित्याय शुद्धाय दिगम्बराय,
तस्मै ‘न’ काराय नमः शिवाय ॥१॥

मन्दाकिनी सलिलचन्दन चर्चिताय,
नन्दीश्वर प्रमथनाथ महेश्वराय ।
मन्दारपुष्प बहुपुष्प सुपूजिताय,
तस्मै ‘म’ काराय नमः शिवाय ॥२॥

शिवाय गौरीवदनाब्जवृन्द-
सूर्याय दक्षाध्वरनाशकाय ।
श्रीनीलकण्ठाय वृषध्वजाय,
तस्मै ‘शि’ काराय नमः शिवाय ॥३॥

वसिष्ठकुम्भोद्भवगौतमार्य-
मुनीन्द्रदेवार्चितशेखराय।
चन्द्रार्क वैश्वानरलोचनाय,
तस्मै ‘व’ काराय नमः शिवाय ॥४॥

यक्षस्वरूपाय जटाधराय,
पिनाकहस्ताय सनातनाय ।
दिव्याय देवाय दिगम्बराय,
तस्मै ‘य’ काराय नमः शिवाय ॥५॥

पञ्चाक्षरमिदं पुण्यं यः पठेच्छिवसन्निधौ ।
शिवलोकमवाप्नोति शिवेन सह मोदते ॥

॥ इति श्रीमच्छंकराचार्यविरचितं श्रीशिवपंचाक्षरस्तोत्रं सम्पूर्णम् ॥

शिव जी की स्तुति करें Aarti Karo Harihar ki आरती करो हरिहर की से.

Leave a Comment