Kedarnath Yatra 2022 : केदारनाथ यात्रा 2022 से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी

Kedarnath Yatra 2022 Complete Information, Opening Date, Closing Date, Travel Guide, How to reach Kedarnath, Process, Costs etc.

केदारनाथ यात्रा 2022 से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी, कैसे जाएँ, केदारनाथ धाम कैसे पहुंचे, कितना खर्च आयेगा, केदारनाथ धाम के कपाट कब खुलेंगे और कब बंद होंगे आदि से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी आज के इस पोस्ट में देने की कोशिश कर रहें हैं. ताकि आप सब बाबा के भक्त श्री केदारनाथ धाम के दर्शन आसानी से और चिंतामुक्त होकर कर सकें. जय बाबा शंकर.

Kedarnath Yatra 2022 केदारनाथ यात्रा 2022

केदारनाथ धाम की यात्रा करना और बाबा श्री केदार के दर्शन और पूजन की इच्छा प्रत्येक शिव भक्त को होती है. इस यात्रा को बहुत ही पवित्र यात्रा माना गया है. मेरा मानना है की प्रत्येक मनुष्य को कम से कम एक बार श्री केदारनाथ धाम की यात्रा अवस्य करनी चाहिए. यहाँ पहुँचने के पश्चात मनुष्य को एक दिव्य अनुभूति होती है.

लेकिन कहतें हैं न की जब तक बाबा नहीं बुलायेंगे तब तक भक्त उनके दर पर नहीं जा सकता है. इस लिए ह्रदय से बाबा केदारनाथ के दर्शन की इच्छा रखें. बाबा केदार आपको अवस्य बुलायेंगे और यात्रा की समस्त बाधाओं को दूर करेंगे.

आप इस पोस्ट को पढ़ रहें हैं, इससे पता चलता है की आपके ह्रदय में बाबा केदारनाथ के धाम के दर्शन की अभिलाषा है. हम बाबा केदारनाथ से प्रार्थना करतें हैं की अपने समस्त भक्तों को अपने धाम के दर्शन अवस्य कराएं. जय बाबा केदार.

हम इस पोस्ट के माध्यम से यह पूरी कोशिश करेंगे की आप सब लोगों को केदारनाथ यात्रा से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करा सकूँ. ताकि आप सब भी केदारनाथ धाम की यात्रा करके बाबा केदारनाथ के दर्शन और पूजन को कर सकें. अगर आप सब लोगों को किसी भी प्रकार का कोई सवाल पूछना हो तो आप हमें कमेंट में पुछ सकतें हैं. हम अपनी तरफ से आप सब लोगों के सवालों का जवाब जल्द से जल्द देने की कोशिश करेंगे.

केदारनाथ धाम

सबसे पहले हम श्री केदारनाथ धाम के बारे में कुछ चर्चा कर लेतें हैं. केदारनाथ धाम भगवान शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है. श्री केदारनाथ धाम के प्रति लोगों में बहुत श्रद्धा है.

केदारनाथ धाम भारत के उत्तराखंड राज्य में है. उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में श्री केदारनाथ धाम मंदिर स्थित है.

यह मंदिर अत्यंत ही प्राचीन है. मान्यताओं के अनुसार इस श्री केदारनाथ मंदिर की स्थापना पांड्वो द्वारा की गयी है. वैसे एक मान्यता यह भी है की केदारनाथ मंदिर की स्थापना आदि शंकराचार्य द्वारा की गयी है.

इतिहासकारों के अनुसार आदि शंकराचार्य से पूर्व भी मंदिर स्थापित था. और लोग वहां पूजा आदि के लिए जाते थे.

श्री केदारनाथ मंदिर को अत्यंत पवित्र स्थल माना जाता है. लोगों की मान्यताओं के अनुसार यहाँ शिव जागृत अवस्था में विराजमान है. साथ ही यहाँ शिव के गण आदि वास करतें हैं.

हमारी आप सबसे विनती है की आप सब भी जब श्री केदारनाथ धाम की यात्रा पर जाएँ तो यहाँ की पवित्रता का ह्रदय से सम्मान करें और इस धाम को किसी भी तरह से अपवित्र करने की कोशिश नहीं करें.

Kedarnath Yatra 2022 Opening Date केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने की तारीख

श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने की तारीख प्रत्येक वर्ष अक्षय तृतीया का दिन है. अक्षय तृतीया के दिन श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खोले जातें हैं.

वैसे एक बात हम आप लोगों को बताना चाहतें हैं की श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने की तारीख और समय की गणना केदारनाथ श्राइन बोर्ड के माध्यम से केदारनाथ धाम के पुजारी रावल के द्वारा पंचांग की गणना करने के पश्चात निर्धारित की जाती है.

श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने के तारीख और समय का निर्धारण करने के लिए प्रत्येक वर्ष महाशिवरात्रि के दिन उखीमठ के ओंकारेश्वर मंदिर में बैठक की जाती है और यहाँ श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट खुलने की तारीख और समय की घोषणा की जाती है.

इस वर्ष यानी की 2022 में महाशिवरात्रि 1 मार्च को है. इस तरह से 1 मार्च के दिन ही हमें इस सम्बन्ध में सही जानकारी मिल पायेगी.

आप सब लोग इस पेज को बुकमार्क कर लें. ताकि जैसे ही कोई भी अपडेट हमारे पास आएगी हम उसे इस पेज में प्रकाशित कर देंगे.

वैसे हमारे अनुमान के अनुसार मई महीने में तिन तारीख के आस पास श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट खुल जायेंगे.

श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने की तारीख और समय को सम्पूर्ण विधि विधान के साथ श्री केदारनाथ मंदिर के कपाट खोले जातें हैं.

Kedarnath Temple Opening Date 2022 केदारनाथ मंदिर कपाट खुलने की तारीख

Kedarnath Yatra 2022 Closing Date केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट बंद होने की तारीख

श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट भाई दूज के दिन बंद किये जातें हैं. इस सम्बन्ध में घोषणा शिवरात्री के दिन होने वाली पंचांगों की गणना के बाद की जायेगी.

इस साल यानी की 2022 में भाई दूज 26 अक्टूबर को है. इस तरह से यह अनुमान है की 26 अक्टूबर को श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट बंद कर दिए जायेंगे.

केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट खुलने और बंद होने की तारीख 2022 (अनुमानित)

मंदिर के कपाट खुलने की तारीख03 मई 2022
मंदिर के कपाट बंद होने की तारीख26 अक्टूबर 2022

How to reach Kedarnath? केदारनाथ धाम कैसे जाएँ?

केदारनाथ जाने के लिए आपको सबसे पहले हरिद्वार आना होगा. आप आसानी से हरिद्वार आ सकतें हैं. हरिद्वार के लिए बहुत सी ट्रेन और बस उपलब्द्ध है. अगर आप हवाई जहाज से आना चाहतें हैं तो आप देहरादून आ सकतें हैं और वहां से ट्रेन या फिर सड़क के माध्यम से हरिद्वार आ सकतें हैं. या फिर सीधे सड़क के माध्यम से गौरीकुंड जा सकतें हैं.

आप ऋषिकेश से भी केदारनाथ धाम जा सकतें हैं.

ऋषिकेश के लिए भी ट्रेन और सड़क की सुविधा उपलब्द्ध है. ऋषिकेश हरिद्वार से लगभग २० किलोमीटर की दुरी पर है.

मेरे हिसाब से आप सबसे पहले ट्रेन या सड़क मार्ग से हरिद्वार पहुंचे. हरिद्वार पहुँचने के लिए बहुत सी ट्रेन उपलब्द्ध हैं. आप अपने यहाँ से हरिद्वार के लिए ट्रेन देख सकतें हैं. अगर आपके यहाँ से हरिद्वार के लिए ट्रेन नहीं है तो आप दिल्ली आकर यहाँ से हरिद्वार के लिए ट्रेन पकड़ सकतें हैं. दिल्ली से आप सड़क मार्ग से भी हरिद्वार पहुँच सकतें हैं. दिल्ली से हरिद्वार के लिए बस भी उपलब्द्ध है.

अगर आप ऋषिकेश पहुंचते हैं तो वह भी ठीक है. ऋषिकेश के लिए अब ट्रेन की सुविधा उपलब्द्ध हो गयी है. साथ ही बस भी उपलब्द्ध है.

श्री केदारनाथ धाम मंदिर जाने के लिए आपको हरिद्वार से सड़क मार्ग के माध्यम से जाना होगा. श्री केदारनाथ धाम मंदिर के लिए आप सड़क मार्ग से गौरीकुंड तक जा सकतें हैं. गौरीकुंड से आगे श्री केदारनाथ मंदिर तक आपको पैदल या फिर घोड़े या खच्चर या पालकी के माध्यम से जाना होगा.

चलिए इस संबंद्ध में विस्तार से आप सबको बतातें हैं.

Get your FREE Domain For Life with our hosting plans.

Haridwar to Kedaarnath हरिद्वार से केदारनाथ

केदारनाथ यात्रा के लिए आप सबसे पहले हरिद्वार पहुंचे. हरिद्वार पहुँचने के पश्चात आप यहाँ से बस, टैक्सी या फिर अन्य साधनों से सड़क मार्ग के द्वारा गौरीकुंड तक जा सकतें हैं.

बस के लिए आप एक दिन पहले ही हरिद्वार से बुकिंग कर लें तो अच्छा होगा. हरिद्वार बस स्टैंड से आप यह बुकिंग कर सकतें हैं. हरिद्वार रेलवे स्टेशन और बस स्टैंड आस पास ही हैं.

हरिद्वार से गौरीकुंड की दुरी लगभग 230 किलोमीटर है.

हरिद्वार से गौरीकुंड का बस का किराया लगभग 350 से 5०० रूपये के आस पास है. अगर आप बस की बुकिंग नहीं कर सकें हैं तो आप सुबह एक दम सवेरे बस के लिए प्रयास कर सकतें हैं.

आप सबको एक बात बता दूँ की हरिद्वार से गौरीकुंड के लिए सड़क मार्ग रात में बंद रहता है. सुबह 3 – 4 बजे से सड़क मार्ग से वाहनों का प्रचालन शुरू होता है. इसलिए आप यह कोशिश करें की एक सवेरे बस के लिए प्रयास करें.

बस के अलावा आप टैक्सी आदि भी बुक कर सकतें हैं. टैक्सी का किराया परिस्थिति और समय के हिसाब से होता है. यह किराया लगभग 3500 से 10000 रूपये तक हो सकता है.

आप शेयर्ड टैक्सी या ट्रेकर के माध्यम से भी जा सकतें हैं.

आप सबकी सुविधा के लिए एक बात बता दूँ की अगर आपको सीधे गौरीकुंड के लिए कोई सवारी नहीं मिलती है तो आप चिंता नहीं करें.

आप बस या फिर शेयर्ड टैक्सी और ट्रेकर आदि के माध्यम से रुद्रप्रयाग तक आ जाइए. रुद्रप्रयाग से आपको सोनप्रयाग के लिए सवारी मिल जायेगी. आप आसानी से सोनप्रयाग पहुँच जायेंगे. सोनप्रयाग पहुँचने के पश्चात आपको अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. सोनप्रयाग में आप अपना रजिस्ट्रेशन रजिस्ट्रेशन काउंटर पर करवा लें. आप सोनप्रयाग में भी रुक सकतें हैं.

सोनप्रयाग में रुकने के लिए बहुत से होटल आदि है. होटल का किराया समय और परिस्थिति के हिसाब से होता है. 1500 से 8000 तक रूम का किराया हो सकता है.

अगर आपको रूम मिलने में दिक्कत हो. ज्यादा भीड़भाड़ के समय रूम मिलने में दिक्कत होती है साथ ही रूम का किराया भी अधिक होता है.

आप चिंता नहीं करें. सोनप्रयाग में बहुत सारे रुकने की जगह है. आप ध्यान से देखें आपको बहुत से बड़े हॉल मिल जायेंगे. जहाँ प्रत्येक व्यक्ति 300 के हिसाब से रात में रुकने की व्यवस्था की जाती है. शौचालय आदि के लिए आप सरकारी शौचालय जो की पास में ही है जा सकतें हैं.

भोजन आदि के लिए यहाँ कई सारे होटल हैं. आपको कोई दिक्कत नहीं होगी.

आप गौरीकुंड में भी रात विश्राम कर सकतें हैं. गौरीकुंड की दुरी सोनप्रयाग से लगभग 5-6 किलोमीटर है. यहाँ से आप शेयर्ड टैक्सी या फिर ट्रेकर के माध्यम से गौरीकुंड जा सकतें हैं. अगर आप जवान और फिट हैं तो आप पैदल भी जा सकतें हैं.

गौरीकुंड भी रुकने के लिए कई होटल और लॉज आदि हैं.

Rishikesh to Kedarnath ऋषिकेश से केदारनाथ

अगर आप ऋषिकेश पहुँचते हैं तो आप यहाँ से भी सोनप्रयाग के लिए बस से जा सकतें हैं. बस के अलावा यहाँ से भी आपको टैक्सी आदि मिल जायेगी. आप ऋषिकेश से रुद्रप्रयाग भी जा सकतें हैं और वहां से सोनप्रयाग जा सकतें हैं.

उसके पश्चात सोनप्रयाग से गौरीकुंड जा सकतें हैं. गौरीकुंड से आगे केदारनाथ मंदिर के लिए आपको पैदल, घोड़े खच्चर या फिर पालकी का सहारा लेना पड़ेगा.

Gaurikund to Kedarnath गौरीकुंड से केदारनाथ

गौरीकुंड से केदारनाथ की दुरी लगभग 14 किलोमीटर है. यह दुरी आपको पैदल, घोड़े-खच्चर या फिर पालकी के माध्यम से तय करनी पड़ेगी.

अगर आप फिट हैं तो आप पैदल भी इस दुरी को तय कर सकतें हैं. गौरीकुंड से केदारनाथ के रास्ते में बहुत से रमणीय जगह है. आप खुबसूरत प्राकृतिक नजारों को देखते हुए केदारनाथ मंदिर जा सकतें हैं.

केदारनाथ में रुकने की व्यवस्था

केदारनाथ में रुकने के लिए होटल आदि उपलब्द्ध हैं. आप GMVN के साईट पर जाकर भी अपने लिए कॉटेज आदि बुक कर सकतें हैं.

इसके अलावा आप टेंट में भी रह सकतें हैं. यहाँ आपको स्लीपिंग बैग उपलब्द्ध करवाई जाती है.

भोजन की व्यवस्था

सोनप्रयाग, गौरीकुंड में खाने के अच्छे होटल हैं. साथ ही केदारनाथ धाम में भी खाने के रेस्टोरेंट उपलब्द्ध हैं. इसके अलावा चाय नास्ते की दुकाने भी हैं. गौरीकुंड से केदारनाथ के रास्ते में भी चाय नास्ते की दुकाने हैं.

महामारी आदि के कारण यात्रा के लिए अभी कुछ नियम आदि तय किये गएँ हैं जैसे की इ पास के माध्यम से पहले स्वकृति लेनी होती है.

इस संबंद्ध में कोई भी नयी जानकारी होने पर हम आपको इसी साईट पर सूचित करेंगे.

श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट कब खोलें जातें हैं?

बाबा श्री केदारनाथ धाम मंदिर के कपाट मुख्यतः अक्षय तृतीया के दिन खोले जातें हैं. इस संबंद्ध में निर्णय शिवरात्रि के दिन होने वाली बैठक में तय किया जाता है.

श्री केदारनाथ धाम मंदिर कहाँ स्थित है?

श्री केदारनाथ धाम मंदिर उत्तराखंड राज्य के रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है.

आप इसे भी देखें –

Kedarnath Ki Aarti – करिये केदारनाथ भगवान की आरती

Shiv Ji Ki Aarti शिव जी की आरती

Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम्

Shiv Tandav Stotram Lyrics शिव ताण्डव स्तोत्रम्

Shiv Tandav Stotram with Meaning in Hindi शिव तांडव स्तोत्रम्

श्री शिव चालीसा – Shiv Chalisa in Hindi

Maha Shivaratri महाशिवरात्रि कब है?

किसी भी तरह के सवाल के लिए आप हमें कमेंट बॉक्स में लिख सकतें हैं. कृपया वेबसाइट का नाम नहीं डालें.

11 thoughts on “Kedarnath Yatra 2022 : केदारनाथ यात्रा 2022 से संबंद्धित सम्पूर्ण जानकारी”

  1. हमें कुछ जानकारी या मदत चाहिए तो हम किस नंबर पर कॉल कर सकते हैं

    Reply
    • आप चार धाम की सरकारी वेबसाइट को देख सकतें हैं. किसी भी तरह की नई जानकारी हम इस पोस्ट में अपडेट करेंगे. साथ ही अगर आपके कोई और सवाल है तो आप हमें कमेंट में लिख सकतें हैं.

      Reply
  2. केदारनाथ मंदिर के आसपास रुकने की व्यवस्था मिल सकती हैं?

    Reply
    • केदारनाथ मंदिर के पास बहुत से होटल है. साथ ही GMVN के गेस्ट रूम मिलतें हैं. साथ ही टेंट भी मिल जातें हैं. रुकने की कोई समस्या नहीं है. चिंता नहीं करें. अगर आपके अंदर केदारनाथ जाने की इच्छा है तो आप आराम से जा सकतें हैं.

      Reply
  3. इ पास अनिवार्य है या नही इस बारे में जानकारी प्रदान करे।।

    Reply
    • अभी इस संबंद्ध में कोई सुचना नहीं दी गई है. सुचना प्राप्त होने पर हम अपडेट अवस्य करेंगे.

      Reply
    • अभी जो कोरोना की स्थिति है उसमे हम आशा कर सकतें हैं की इस साल e paas अनिवार्य नहीं किया जायेगा. लेकिन आपको यात्रा से पहले वहां रजिस्ट्रेशन अवस्य करवाना पड़ेगा.

      Reply
  4. Shri sanjay ji
    Namaste 🙏
    Main is baar kedaarnath dham darshan ko jana chahata hoon.
    Please margdarshan kejeye.

    Reply
    • अवस्य जाएँ. यात्रा से संबंद्धित जानकारी तो हमने पोस्ट में दी ही हुई है. आप ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कर लें. या फिर आप वहां जाकर भी रजिस्ट्रेशन करवा सकतें हैं. आप हरिद्वार, ऋषिकेश, सोनप्रयाग के अलावा कई जगहों से अपना ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन करवा सकतें हैं.
      और क्या जानकारी चाहिए आप हमें पुछ सकतें हैं.

      Reply

Leave a Comment