Durga Chalisa दुर्गा चालीसा – पायें माँ दुर्गा से अभय वरदान

Durga Chalisaदुर्गा चालीसा – माँ दुर्गे की आराधना और स्तुति करने के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही शुभ माना गया है.

सम्पूर्ण श्रद्धापूर्वक भक्तिभावना के साथ दुर्गा चालीसा का पाठ करें. ख़ास कर के नवरात्री के दिनों में दुर्गा चालीसा का पाठ करना अत्यंत ही शुभ होता है.

साथ ही आप रोजाना भी माँ दुर्गा की स्तुति के लिए दुर्गा चालीसा का पाठ कर सकतें हैं. दुर्गा चालीसा पाठ के पश्चात माँ दुर्गा की आरती भी अवस्य करें.

Durga Chalisa दुर्गा चालीसा

Durga Chalisa

Source : Soundcloud

|| दुर्गा चालीसा ||

Durga Mata

नमो नमो दुर्गे सुख करनी ।
नमो नमो अम्बे दुःख हरनी ॥

निराकार है ज्योति तुम्हारी ।
तिहूं लोक फैली उजियारी ॥

शशि ललाट मुख महाविशाला ।
नेत्र लाल भृकुटि विकराला ॥

रूप मातु को अधिक सुहावे ।
दरश करत जन अति सुख पावे ॥

तुम संसार शक्ति लै कीना ।
पालन हेतु अन्न धन दीना ॥

अन्नपूर्णा हुई जग पाला ।
तुम ही आदि सुन्दरी बाला ॥

प्रलयकाल सब नाशन हारी ।
तुम गौरी शिवशंकर प्यारी ॥

शिव योगी तुम्हरे गुण गावें ।
ब्रह्मा विष्णु तुम्हें नित ध्यावें ॥

रूप सरस्वती को तुम धारा ।
दे सुबुद्धि ऋषि मुनिन उबारा ॥

धरयो रूप नरसिंह को अम्बा ।
परगट भई फाड़कर खम्बा ॥

रक्षा करि प्रह्लाद बचायो ।
हिरण्याक्ष को स्वर्ग पठायो ॥

लक्ष्मी रूप धरो जग माहीं ।
श्री नारायण अंग समाहीं ॥

क्षीरसिन्धु में करत विलासा ।
दयासिन्धु दीजै मन आसा ॥

हिंगलाज में तुम्हीं भवानी ।
महिमा अमित न जात बखानी ॥

मातंगी अरु धूमावति माता ।
भुवनेश्वरी बगला सुख दाता ॥

श्री भैरव तारा जग तारिणी ।
छिन्न भाल भव दुःख निवारिणी ॥

केहरि वाहन सोह भवानी ।
लांगुर वीर चलत अगवानी ॥

कर में खप्पर खड्ग विराजै ।
जाको देख काल डर भाजै ॥

सोहै अस्त्र और त्रिशूला ।
जाते उठत शत्रु हिय शूला ॥

नगरकोट में तुम्हीं विराजत ।
तिहुंलोक में डंका बाजत ॥

शुंभ निशुंभ दानव तुम मारे ।
रक्तबीज शंखन संहारे ॥

महिषासुर नृप अति अभिमानी ।
जेहि अघ भार मही अकुलानी ॥

रूप कराल कालिका धारा ।
सेन सहित तुम तिहि संहारा ॥

परी गाढ़ संतन पर जब-जब ।
भई सहाय मातु तुम तब-तब ॥

अमरपुरी अरु बासव लोका ।
तब महिमा सब रहें अशोका ॥

Get your FREE Domain For Life with our hosting plans.

ज्वाला में है ज्योति तुम्हारी ।
तुम्हें सदा पूजें नर-नारी ॥

प्रेम भक्ति से जो यश गावें ।
दुःख दारिद्र निकट नहिं आवें ॥

ध्यावे तुम्हें जो नर मन लाई ।
जन्म-मरण ताकौ छुटि जाई ॥

जोगी सुर मुनि कहत पुकारी ।
योग न हो बिन शक्ति तुम्हारी ॥

शंकर आचारज तप कीनो ।
काम अरु क्रोध जीति सब लीनो ॥

निशिदिन ध्यान धरो शंकर को ।
काहु काल नहिं सुमिरो तुमको ॥

शक्ति रूप का मरम न पायो ।
शक्ति गई तब मन पछितायो ॥

शरणागत हुई कीर्ति बखानी ।
जय जय जय जगदम्ब भवानी ॥

भई प्रसन्न आदि जगदम्बा ।
दई शक्ति नहिं कीन विलम्बा ॥

मोको मातु कष्ट अति घेरो ।
तुम बिन कौन हरै दुःख मेरो ॥

आशा तृष्णा निपट सतावें ।
रिपू मुरख मौही डरपावे ॥

शत्रु नाश कीजै महारानी ।
सुमिरौं इकचित तुम्हें भवानी ॥

करो कृपा हे मातु दयाला ।
ऋद्धि-सिद्धि दै करहु निहाला ।

जब लगि जिऊं दया फल पाऊं ।
तुम्हरो यश मैं सदा सुनाऊं ॥

दुर्गा चालीसा जो कोई गावै ।
सब सुख भोग परमपद पावै ॥

देवीदास शरण निज जानी ।
करहु कृपा जगदम्ब भवानी ॥

|| दोहा ||

शरणागत रक्षा करे, भक्त रहे निःशंक ।
मैं आया तेरी शरण में, मातु लीजिये अंक ।।

॥ इति श्री दुर्गा चालीसा सम्पूर्ण ॥

Durga Chalisa

Source : YouTube Video

Read more

Om Jai Ambe Gauri Aarti ॐ जय अम्बे गौरी आरती

Jay Adhya Shakti Aarti जय अध्य शक्ति आरती

Durga Aarti दुर्गा आरती

Maa Baglamukhi Aarti माँ बगलामुखी आरती

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

Aarti Jag Janani Main Teri Gaun आरती जग जननी मैं तेरी गाऊँ

Jagdamba Mata Aarti जगदम्बा माता आरती

Leave a Comment