Skandmata Ki Aarti

Skandmata Ki Aarti स्कंदमाता की आरती – नवरात्रि के पांचवे दिन माँ स्कंदमाता की आराधना और स्तुति की जाती है.

स्कंदमाता की आराधना करना अत्यंत ही शुभ फलदायक होता है. सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ स्कंदमाता की आराधना करें.

Skandmata Ki Aarti स्कंदमाता की आरती

|| स्कंदमाता की आरती ||

जय तेरी हो स्कंद माता |
पांचवां नाम तुम्हारा आता ||

सबके मन की जानन हारी |
जग जननी सबकी महतारी ||

तेरी जोत जलाता रहू मैं |
हरदम तुझे ध्याता रहू मै ||

कई नामों से तुझे पुकारा |
मुझे एक है तेरा सहारा ||

कही पहाडो पर है डेरा |
कई शहरों में तेरा बसेरा ||

हर मंदिर में तेरे नजारे |
गुण गाए तेरे भक्त प्यारे ||

भक्ति अपनी मुझे दिला दो |
शक्ति मेरी बिगड़ी बना दो ||

इंद्र आदि देवता मिल सारे |
करे पुकार तुम्हारे द्वारे ||

दुष्ट दैत्य जब चढ़ कर आए |
तू ही खंडा हाथ उठाए ||

दासों को सदा बचाने आयी |
भक्त की आस पुजाने आयी ||

Skandmata Ki Aarti Lyrics

Jay Teri Ho Skand Mata.
Paanchwa Naam Tumhara Aata.

Sabke Man Ki Janan Hari.
Jag Janani Sabki Mahtari.

Teri Jot Jalata Rahu Main.
Hardam Tujhe Dhyata Rahu Main.

Kai Naamo Se Tujhe Pukara.
Mujhe Ek Hai Tera Sahara.

Kahi Pahado Par Hai Dera.
Kai Shahron Me Tera Basera.

Har Mandir Me Tere Najare.
Gun Gaaye Tere Bhakt Pyare.

Bhakti Apni Mujhe Dila Do.
Shakti Meri Bigadi Bana Do.

Indra Aadi Devta Mil Sare.
Kare Pukar Tumhare Dware.

Dusht Daitya Jab Chadh Kar Aaye.
Tu Hi Khanda Hath Uthaye.

Daason Ko Sada Bachane Aayi.
Bhakt Ki Aas Pujane Aayi.

हमारे अन्य प्रकाशनों को भी देखें.

Om Jai Ambe Gauri Aarti ॐ जय अम्बे गौरी आरती

Jay Adhya Shakti Aarti जय अध्य शक्ति आरती

Durga Aarti दुर्गा आरती

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

Aarti Jag Janani Main Teri Gaun आरती जग जननी मैं तेरी गाऊँ

Jagdamba Mata Aarti जगदम्बा माता आरती

Durga Chalisa दुर्गा चालीसा – पायें माँ दुर्गा से अभय वरदान

माँ स्कंदमाता के बारे में और जानकारी के लिए आप विकिपीडिया पर जा सकतें हैं.

By Shri Sanjay Ji

All the post of this site are write and managed by Shri Sanjay Ji. इस साईट की सभी प्रकाशन श्री संजय जी के द्वारा लिखी और मैनेज की जाती है.