Surya Bhagwan Ki Aarti | सूर्य भगवान की आरती

Surya Bhagwan Ki Aarti | सूर्य भगवान की आरती – सूर्य देव भगवान की आराधना और स्तुति करना अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.

Surya Chalisa | सूर्य चालीसा का पाठ करना भी अत्यंत ही शुभ और मंगलकारी होता है.

सूर्य देव हमारे साक्षात भगवान हैं. हम सूर्य भगवान को देख सकतें हैं. आज के इस अंक में हम सूर्य भगवान की आरती प्रस्तुत कर रहें हैं. सूर्य देव जी की अन्य आरतियाँ भी हमने इस साईट पर प्रकाशित की हुई हैं. आप उन आरतियों को भी देखें.

सूर्य देव की अन्य आरतियों का लिंक निचे दिया हुआ है.

Jai Jai Jai Ravi Dev Aarti | जय जय जय रवि देव आरती

Jai Kashyap Nandan, Jai Aditi Nandan Aarti | जय कश्यप नन्दन, जय अदिति नन्दन आरती

श्री सूर्य देव की आराधना और स्तुति करना मनुष्य के लिए अत्यंत ही शुभ फलदायक होता है. सूर्य भगवान की कृपा से मनुष्य को शारीरिक और मानसिक रोगों से मुक्ति मिलती है. शरीर को स्वस्थ रखने के लिए हम सूर्य देव की आराधना कर सकतें हैं.

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य देव को रोजाना जल अर्पण करने से शरीर निरोगी और स्वस्थ रहता है.

साथ ही सूर्य देव की कृपा से सुख शांति की प्राप्ति होती है. निर्धनों को धन सम्पति की प्राप्ति होती है. निःसंतान को संतान की प्राप्ति होती है.

सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ श्री सूर्य देव भगवान की आराधना और स्तुति करें.

Surya Bhagwan Ki Aarti | सूर्य भगवान की आरती

Surya Bhagwan Ki Aarti
Surya Bhagwan Ki Aarti

|| सूर्य भगवान की आरती ||

ॐ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान ।
जगत् के नेत्रस्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा ।
धरत सब ही तव ध्यान, ॐ जय सूर्य भगवान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

सारथी अरुण हैं प्रभु तुम, श्वेत कमलधारी ।
तुम चार भुजाधारी ।।
अश्व हैं सात तुम्हारे, कोटि किरण पसारे ।
तुम हो देव महान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

ऊषाकाल में जब तुम, उदयाचल आते। सब तब दर्शन पाते ।।
फैलाते उजियारा, जागता तब जग सारा । करे सब तब गुणगान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

संध्या में भुवनेश्वर अस्ताचल जाते । गोधन तब घर आते ।।
गोधूलि बेला में, हर घर हर आंगन में । हो तव महिमा गान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

देव-दनुज नर-नारी, ऋषि-मुनिवर भजते । आदित्य हृदय जपते ।।
स्तोत्र ये मंगलकारी, इसकी है रचना न्यारी । दे नव जीवनदान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

तुम हो त्रिकाल रचयिता, तुम जग के आधार । महिमा तब अपरम्पार ।।
प्राणों का सिंचन करके भक्तों को अपने देते । बल, बुद्धि और ज्ञान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

भूचर जलचर खेचर, सबके हों प्राण तुम्हीं । सब जीवों के प्राण तुम्हीं ।।
वेद-पुराण बखाने, धर्म सभी तुम्हें माने । तुम ही सर्वशक्तिमान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

पूजन करतीं दिशाएं, पूजे दश दिक्पाल । तुम भुवनों के प्रतिपाल ।।
ऋतुएं तुम्हारी दासी, तुम शाश्वत अविनाशी । शुभकारी अंशुमान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

ॐ जय सूर्य भगवान, जय हो दिनकर भगवान ।
जगत् के नेत्रस्वरूपा, तुम हो त्रिगुण स्वरूपा ।
धरत सब ही तव ध्यान, ॐ जय सूर्य भगवान ।।

ॐ जय सूर्य भगवान ………

इसे भी देखें – Tulsi Aarti | तुलसी माता आरती – तुलसी महारानी नमो नमो

Get your FREE Domain For Life with our hosting plans.

Surya Bhagwan Ki Aarti Lyrics

Surya Bhagwan Ki Aarti Lyrics

|| Surya Bhagwan Ki Aarti ||

Om Jai Surya Bhagwan, Jai Ho Dinkar Bhagwan.
Jagat Ke Netraswarupa, Tum Ho Trigun Swarupa.
Dharat Sab Hi Tav Dhyan, Om Jai Surya Bhagwan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Sarathi Arun Hai Prabhu Tum Shwet Kamaldhari.
Tum Char Bhujadhari.
Ashwa Hain Saat Tumhare, Koti Kiran Pasare.
Tum Ho Dev Mahan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Ushakal Me Jab Tum, Udyachal Aate. Sab Tab Darshan Pate.
Phailate Ujiyara, Jagta Tab Jag Sara. Kare Sab Tab Gungan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Sandhya Me Bhuvneshwar Astachal Jate. Godhan Tab Ghar Aate.
Godhuli Bela Me, Har Ghar Har Aangan Me, Ho Tav Mahima Gaan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Dev-Danuj Nar-Nari, Rishi-Munivar Bhajte. Aaditya Hriday Japte.
Stotra Ye Mangalkari, Iski Hai Rachna Nyari. De Nav Jiwandan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Tum Ho Trikal Rachayita, Tum Jag Ke Aadhar. Mahima Tab Aprampar.
Prano Ka Sinchan Karke Bhakton Ko Apne Dete. Bal Buddhi Aur Gyan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Bhuchar Jalchar Khechar, Sabke Ho Pran Tumhi. Sab Jivon Ke Pran Tumhi.
Ved-Puran Bakhane, Dharm Sabhi Tumhe Maane. Yum Hi Sarvshaktiman.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Pujan Karti Dishayen, Puje Dash Dikpal. Tum Bhuvano Ke Pratipal.
Rituyen Tumhari Dasi, Tum Shashwat Avinashi. Shubhkari Anshuman.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

Om Jai Surya Bhagwan, Jai Ho Dinkar Bhagwan.
Jagat Ke Netraswarupa, Tum Ho trigun Swarupa.
Dharat Sab Hi tav Dhyan, Om Jai Surya Bhagwan.

Om Jai Surya Bhagwan ……….

इसे भी देखें – Gayatri Mata Ki Aarti गायत्री माता की आरती

विडियो

सूर्य भगवान की आरती विडियो हमने निचे दिया हुआ है. आप इस विडियो को यहीं देख सकतें हैं.

Surya Bhagwan Ki Aarti

Video source : YouTube

हमारे इस साईट पर प्रकाशित कुछ अन्य आरतियों की सूचि निचे दी हुई है. आप इन्हें देख सकतें हैं.

माता तुलसी जी की आरती | Mata Tulsi Ji Ki Aarti

Lakshmi Aarti – Om Jai Lakshmi Mata | लक्ष्मी माता आरती

Aarti Kuber Ji Ki | कुबेर जी की आरती | धन सम्पति की प्राप्ति के लिए

वैष्णो देवी की आरती | Vaishno Devi Ki Aarti

Maa Kali Aarti | माँ काली आरती – Ambe Tu Hai Jagdambe Kali

Khatu Shyam Ji Ki Aarti | खाटू श्याम जी की आरती

अन्य आरतियों के लिए आप हमारे आरती केटेगरी को देख सकतें हैं.

Aarti | आरती

सम्पूर्ण चालीसा संग्रह के लिए आप हमारे चालीसा केटेगरी को देख सकतें हैं.

Chalisa | चालीसा

Leave a Comment