Batuk Bhairav Chalisa – श्री बटुक भैरव चालीसा का पाठ करें

महादेव शिव के ही एक अंश या रूप श्री बटुक भैरव की स्तुति के लिए Batuk Bhairav Chalisaश्री बटुक भैरव चालीसा का पाठ सम्पूर्ण भक्तिपूर्वक करें.

Batuk Bhairav Chalisa

Batuk Bhairav Chalisa

|| श्री बटुक भैरव चालीसा ||

॥ दोहा ॥

श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ ।
चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥

श्री भैरव संकट हरण, मंगल करण कृपाल ।
श्याम वरण विकराल वपु, लोचन लाल विशाल ॥

|| चौपाई ||

जय जय श्री काली के लाला । जयति जयति काशी-कुतवाला ॥

जयति बटुक भैरव जय हारी । जयति काल भैरव बलकारी ॥

जयति सर्व भैरव विख्याता । जयति नाथ भैरव सुखदाता ॥

भैरव रुप कियो शिव धारण । भव के भार उतारण कारण ॥

भैरव रव सुन है भय दूरी । सब विधि होय कामना पूरी ॥

शेष महेश आदि गुण गायो । काशी-कोतवाल कहलायो ॥

जटाजूट सिर चन्द्र विराजत । बाला, मुकुट, बिजायठ साजत ॥

कटि करधनी घुंघरु बाजत । दर्शन करत सकल भय भाजत ॥

जीवन दान दास को दीन्हो । कीन्हो कृपा नाथ तब चीन्हो ॥

वसि रसना बनि सारद-काली । दीन्यो वर राख्यो मम लाली ॥

धन्य धन्य भैरव भय भंजन । जय मनरंजन खल दल भंजन ॥

कर त्रिशूल डमरु शुचि कोड़ा । कृपा कटाक्ष सुयश नहिं थोड़ा ॥

भैरव निर्भय गुण गावत । अष्टसिद्घि नवनिधि फल पावत ॥

रुप विशाल कठिन दुख मोचन । क्रोध कराल लाल दुहुं लोचन ॥

अगणित भूत प्रेत संग डोलत । बं बं बं शिव बं बं बोतल ॥

रुद्रकाय काली के लाला । महा कालहू के हो काला ॥

बटुक नाथ हो काल गंभीरा । श्वेत, रक्त अरु श्याम शरीरा ॥

करत तीनहू रुप प्रकाशा । भरत सुभक्तन कहं शुभ आशा ॥

त्न जड़ित कंचन सिंहासन । व्याघ्र चर्म शुचि नर्म सुआनन ॥

तुमहि जाई काशिहिं जन ध्यावहिं । विश्वनाथ कहं दर्शन पावहिं ॥

जय प्रभु संहारक सुनन्द जय । जय उन्नत हर उमानन्द जय ॥

भीम त्रिलोकन स्वान साथ जय । बैजनाथ श्री जगतनाथ जय ॥

महाभीम भीषण शरीर जय । रुद्र त्र्यम्बक धीर वीर जय ॥

अश्वनाथ जय प्रेतनाथ जय । श्वानारुढ़ सयचन्द्र नाथ जय ॥

निमिष दिगम्बर चक्रनाथ जय । गहत अनाथन नाथ हाथ जय ॥

त्रेशलेश भूतेश चन्द्र जय । क्रोध वत्स अमरेश नन्द जय ॥

श्री वामन नकुलेश चण्ड जय । कृत्याऊ कीरति प्रचण्ड जय ॥

रुद्र बटुक क्रोधेश काल धर । चक्र तुण्ड दश पाणिव्याल धर ॥

करि मद पान शम्भु गुणगावत । चौंसठ योगिन संग नचावत ।

करत कृपा जन पर बहु ढंगा । काशी कोतवाल अड़बंगा ॥

देयं काल भैरव जब सोटा । नसै पाप मोटा से मोटा ॥

जाकर निर्मल होय शरीरा। मिटै सकल संकट भव पीरा ॥

श्री भैरव भूतों के राजा । बाधा हरत करत शुभ काजा ॥

ऐलादी के दुःख निवारयो । सदा कृपा करि काज सम्हारयो ॥

सुन्दरदास सहित अनुरागा । श्री दुर्वासा निकट प्रयागा ॥

श्री भैरव जी की जय लेख्यो । सकल कामना पूरण देख्यो ॥

॥ दोहा ॥

जय जय जय भैरव बटुक, स्वामी संकट टार ।
कृपा दास पर कीजिये, शंकर के अवतार ॥

जो यह चालीसा पढ़े, प्रेम सहित सत बार ।
उस घर सर्वानन्द हों, वैभव बड़े अपार ॥

जानिये Kaal Bhairava Jayanti date काल भैरव जयंती कब है? भैरव अष्टमी कब है?

विडियो

श्री बटुक भैरव चालीसा (Batuk Bhairav Chalisa) विडियो हमने निचे दिया हुआ है. आप इस विडियो को प्ले बटन दबाकर देख सकतें हैं.

Batuk Bhairav Chalisa Video | बटुक भैरव चालीसा विडियो

श्री बटुक भैरव चालीसा का महत्व | Importance of Batuk Bhairav Chalisa

  • श्री बटुक भैरव चालीसा (Batuk Bhairav Chalisa) पाठ के माध्यम से हम श्री बटुक भैरव जी की स्तुति करतें हैं.
  • बटुक भैरव भगवान की सभी भैरव में सबसे सौम्य माना जाता है.
  • श्री बटुक भैरव चालीसा का पाठ करने से मनुष्य के अंदर का भय हट जाता है.
  • जीवन में आने वाली विकट परिस्थितियों से अगर मन विचलित हो तो श्री बटुक भैरव चालीसा का पाठ करें.
  • आपके अंदर आत्मबिस्वास का संचार होगा.
  • आप कठिन से कठिन परिस्थिति का पुरे दृढ निश्चय के साथ सामना कर पायेंगे.
  • धार्मिक मान्यताओं के अनुसार श्री बटुक भैरव की आराधना और स्तुति करने से आने वाले संकटों से रक्षा होती है.
  • रोगों और कष्टों से मुक्ति मिलती है.
  • जीवन में सफलता प्राप्त होती है.

भगवान श्री बटुक भैरव चालीसा (Batuk Bhairav Chalisa) का पुरे मन से पाठ करें. आप पर श्री बटुक भैरव जी की कृपा हमेशा बनी रहेगी.

Bhairav Chalisa – संकटों से बचने के लिए करें भैरव चालीसा पाठ

भगवान शिव से संबंद्धित कुछ अन्य प्रकाशन –

Shiv Ji Ki Aarti शिव जी की आरती

Aarti Karo Harihar ki आरती करो हरिहर की

श्री शिव चालीसा – Shiv Chalisa in Hindi

Shiv Chalisa Lyrics – Hindi and English

Shiv Tandav Stotram Lyrics शिव ताण्डव स्तोत्रम्

Maha Shivaratri date महाशिवरात्रि कब है?

Shiva Panchakshara Stotram शिव पंचाक्षर स्तोत्रम्

Leave a Reply

Your email address will not be published.