Mata Vindhyeshwari Ki Aarti माता विन्ध्येश्वरी की आरती

विंध्याचल में स्थित आदिशक्ति योगमाया माँ विंध्यवासिनी विन्ध्येश्वरी देवी की स्तुति के लिए आप Mata Vindhyeshwari Ki Aarti माता विन्ध्येश्वरी की आरती सम्पूर्ण श्रद्धापूर्वक करें.

माता विंध्यवासिनी की आराधना के लिए Vindhyavasini Chalisa विन्ध्यवासिनी चालीसा का पाठ भी अवस्य करें.

माता विन्ध्येश्वरी देवी अत्यंत ही दयालु है. भक्तों पर तुरंत प्रसन्न होने वाली देवी हैं. अपने भक्तों की समस्त शुभ मनोकामनाओं को क्षण में पूर्ण करतीं हैं.

विन्ध्येश्वरी माता की आरती सम्पूर्ण भक्तिभाव के साथ करें. जय माता विंध्यवासिनी.

Mata Vindhyeshwari Ki Aarti माता विन्ध्येश्वरी की आरती

Video source : YouTube

Mata Vindhyeshwari Ki Aarti

|| माता विन्ध्येश्वरी की आरती ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी |
कोई तेरा पार ना पाया ||

पान सुपारी ध्वजा नारियल |
ले तेरी भेंट चढाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी ………

सुवा चोली तेरी अंग विराजे |
केसर तिलक लगाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी…………….

नंगे पग मां अकबर आया |
सोने का छत्र चढाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी …………

ऊंचे पर्वत बनयो देवालाया |
निचे शहर बसाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी ………….

सत्युग, द्वापर, त्रेता मध्ये |
कलियुग राज सवाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी ………………

धूप दीप नैवैध्य आरती |
मोहन भोग लगाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी ……………..

ध्यानू भगत मैया तेरे गुन गाया |
मनवांछित फल पाया ||

सुन मेरी देवी पर्वतवासिनी ………………

लक्ष्मी माता की स्तुति करें : Lakshmi Aarti – Om Jai Lakshmi Mata | लक्ष्मी माता आरती

Vindhyeshwari Aarti Lyrics

|| Vindhyavasini Mata Ki Aarti ||

Sun Meri Devi Parwatwasini.
Koi Tera Paar Na Paya.

Paan Supaari Dhwaja naariyal.
Le Teri Bhent Chadhaya.

Sun Meri Devi Parwatwasini…………….

Suva Choli Teri Ang Viraje.
Kesar Tilak Lagaya.

Sun Meri Devi Parvatwasini ……………….

Nange Pag Maa Akbar Aaya.
Sone Ka Chatra Chadhaya.

Sun Meri Devi Parwatwasini………….

Unche parwat Banyo Devalaya.
Niche Shahar Basaya.

Sun Meri Devi Parwatwasini……………

Satyug, Dwapar, Treta Madhye.
Kaliyug Raaj Savaya.

Sun Meri Devi Parwatwasini………………

Dhup Deep Nawedya Aarti,
Mohan Bhog Lagaya.

Sun Meri Devi Parwatwasini…………….

Dhyanu Bhagat Maiya Tere Gun Gaya.
Manwanchhit Phal Paya.

Sun Meri Devi Parwatwasini………….

माँ विन्ध्येश्वरी देवी की सम्पूर्ण श्रद्धा और भक्ति के साथ आराधना और स्तुति करें. माता की परम कृपा अवस्य आप पर बनी रहेगी.

हमारे अन्य प्रकाशनों में से कुछ प्रकाशनों की सूचि निचे दी गयी है. आप केटेगरी के अनुसार भी हमारे प्रकाशनों को देख सकतें हैं.

वैष्णो देवी की आरती | Vaishno Devi Ki Aarti

Maa Kali Aarti | माँ काली आरती – Ambe Tu Hai Jagdambe Kali

Gayatri Mata Ki Aarti गायत्री माता की आरती

Jagdamba Mata Aarti जगदम्बा माता आरती

Ganga Maiya Ki Aarti गंगा मैया की आरती

Aarti Jag Janani Main Teri Gaun आरती जग जननी मैं तेरी गाऊँ

Mangal Ki Seva Sun Meri Deva मंगल की सेवा सुन मेरी देवा

Durga Aarti दुर्गा आरती

Maa Chintpurni Aarti माँ चिंतपूर्णी आरती

Maa Baglamukhi Aarti माँ बगलामुखी आरती

Jay Adhya Shakti Aarti जय आद्य शक्ति आरती

Annapurna Mata Ki Aarti अन्नपूर्णा माता की आरती

Ahoi Mata Ki Aarti अहोई माता की आरती

Om Jai Ambe Gauri Aarti ॐ जय अम्बे गौरी आरती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *